Saturday, September 26, 2009

आपका दशहरा,

आपका दशहरा,
हो प्यार से हरा भरा
खुशियो से युक्त रहे,
दु:ख ना हो जरा
प्रगति के नये सोपान लि्खो
धन सम्प्दा से युक्त दिखो
इस धरा पे तुम कर दो कुछ नया
हर दिशा मे तेरा नाम हो बँया
अपका दशहरा, हो प्यार से भरा
खुशियो से युक्त रहो, दु:ख ना हो जरा

---सभी को विजयादशमी के गर्व भरे पर्व पर मेरी तरफ़ से हार्दिक शुभकामनाये -------

1 comment:

डॉ.पदमजा शर्मा said...

सर्वेश जी
आप मेरे ब्लॉग पर आये . अभिनन्दन . मगर आप अपने ब्लॉग की दुनिया से लम्बे अरसे से दूर हैं .